लोको पायलट कैसे बने?( Loco Pilot Qualification Details ) पूर्ण विवरण हिंदी में

लोको पायलट कैसे बने?( Loco Pilot Qualification Details ) पूर्ण विवरण हिंदी में

हमारे भारत देश के अधिकतर स्टूडेंट रेलवे में नौकरी पाना चाहते है।रेलवे डिपार्टमेंट में कई पद है जिनमे से एक पद है लोको पायलट इस पद पर नियुक्ति के लिए छात्रों में रूचि बहुत देखनें को मिलती हैं। लोको पायलट को हिंदी भाषा में रेल चालक कहा जाता है हमारे देश में रेलवे परिवहन का सबसे बड़ा साधन हैं।

आज के इस पोस्ट में आप लोको पायलट से सम्बंधित निम्न विषयो पर पूर्ण जानकारी विस्तार से प्राप्त कर सकते है – लोको पायलट कैसे बने?( Loco Pilot Kaise Bane ) लोको पायलट योग्यता पूरी जानकारी हिंदी में ( Loco Pilot Qualification In Hindi ) लोको पायलट की तैयारी कैसे करे ? (Loco Pilot Ki Taiyari Kaise Kare ) लोको पायलट की सैलरी भारत में क्या होती हैं रेल चालक कैसे बने ? लोको पायलट को हिंदी में क्या कहते है ? ट्रैन ड्राइवर भर्ती प्रक्रिया विवरण हिंदी में,लोको पायलट बनने के लिए क्या – क्या पढाई करना होता हैं।

क्या आप भी लोको पायलट बनना चाहते हैं ?

अगर आप भी भारतीय रेलवे में लोको पायलट की नौकरी करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको यह जान लेना बेहद जरूरी है की इस नौकरी को करने के लिए क्या क्या शैक्षणिक योग्यता होती है और इस नौकरी को करने से क्या फायदा होगा फिजिकल स्ट्रेंग्थ क्या होना चाहिए साथ ही साथ फीस स्ट्रक्चर क्या है इन सब के बारे में आप पूरी जानकारी लेकर ही कोई नौकरी को करें ताकि आपको बाद में पछताना ना पड़े बहुत बार ऐसा भी होता है हम शुरुवात तो कर देते है लेकिन बाद में हमे पसंद नहीं आता है।

लोको पायलट बनने हेतु आवश्यक योग्यता :

शैक्षिक योग्यता :

अभ्यर्थी को किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से 10वीं / 12वीं परीक्षा पास होना चाहिए, इसके साथ ही साथ किसी मान्यता प्राप्त संस्था से मेकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, ऑटोमोबाइल, इनमे से किसी एक ट्रेड की आईटीआई ( 2 वर्ष ) कम्पलीट होना चाहिए।

शारीरिक योग्यता :

लोको पायलट बनने के लिए अभ्यर्थी का आंख पूरी तरह से स्वस्थ होना अनिवार्य हैं।
अभ्यर्थी की आंख पूरी तरह से ठीक होने पर ही लोको पायलट बन सकता हैं।

आयु सीमा :

लोको पायलट पद हेतु आवेदक की आयु 18 से 18 वर्ष के मध्य होनी चाहिए, तथा आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को आयु में नियमनुसार छूट प्रदान की जाती है।

लोको पायलट बनने हेतु अभ्यर्थियों को निम्नलिखित चरणों से गुजरना होगा :

राष्ट्रीयता :

1. उम्मीदवार भारत देश का नागरिक होना चाहिए।

2. राज्य स्तरीय आवासीय प्रमाण पत्र होना चाहिए।

आवेदन प्रक्रिया :

लोको पायलट भर्ती के लिये आवेदक को ऑफलाइन या ऑनलाइन माध्यम से आवेदन करना होगा, आवेदन की जानकारी विभाग द्वारा प्रकाशित होने वाले नोटिफिकेशन पीडीऍफ़ द्वारा प्राप्त कर सकते है।

ट्रैन ड्राइवर भर्ती प्रक्रिया विवरण हिंदी में

लिखित परीक्षा :

आवेदन करनें के‌ बाद आवेदक का यह पहला चरण होता है, यह लिखित परीक्षा 120 अंक के प्रश्न पूछें जाते है। जिसे 1 घंटा 30 मिनट में हल करना होता है।प्रश्न का गलत उत्तर देने पर 1.3 अंक की कटौती की जाएगी। परीक्षा का समय 1.30 घंटा निर्धारित होता है।

तर्कशक्ति परिक्षण :

दूसरा चरण में छात्र की तर्कशक्ति का परिक्षण किया जाता हैं इसके अनुसार छात्र किसी प्रश्न की उत्तर कितना जल्दी और कितना सटीक दे सकता हैं यह देखे जाते हैं।

प्रमाण पत्र सत्यापन :

इस चरण के अंतर्गत, अभ्यर्थियों की मूल प्रमाण पत्रों की जाँच अधिकारियों द्वारा की जांच की जाती है. सभी प्रमाण पत्र सही पाये जाने पर आवेदक को सफल‌ घोषित कर मेडिकल परिक्षण के लिए बुलाया जाता है।

मेडिकल परीक्षा :

इस चरण के अंतर्गत, अभ्यर्थी का स्वास्थ्य परिक्षण किया जाता है, इसमे आवेदक की आंख, कान, व‌ शरीर के अन्य भागो की जाँच की जाती , इसमें आखो का विजन 6/6 – 6/6 होना आवश्यक है, इसमें पूर्ण रुप से स्वस्थ पाये जानें वाले अभ्यर्थियों को सफल घोषित कर लोको पायलट ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है। इसके पश्चात उन्हें किसी स्थान पर नियुक्ति कर दिया जाता है।

लोको पायलट प्रतिमाह सैलरी

₹ 25000 – 30000 + 40000 ग्रेड पे साथ ही अन्य भत्ता प्रदान किए जाते हैं।

नोट : सीनियर लोको पायलट को इससे भी ज्यादा मासिक वेतन मिलता है।

लोको पायलट परीक्षा की तैयारी करने हेतु महत्वपूर्ण टिप्स :

  • छात्रों को तब तक अध्ययन करते रहने की आवश्यकता है जब तक वे विषयों को पूरी तरह से समझ नहीं लेते हैं और उन्हें विषयों को बेहतर ढंग से समझने के लिए अध्ययन करते समय नोट्स लेने की आवश्यकता होती है।
  • नियोजन प्रमुख है, छात्रों को बार-बार एक ही विषय का अध्ययन करके समय का ट्रैक नहीं खोना चाहिए छात्रों को वर्ष की शुरुआत से अपनी पढ़ाई की योजना बनाने और वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए इसे बारीकी से पालन करने की आवश्यकता है।
  • छात्रों को अपने अध्ययन पैटर्न पर भी ध्यान देना चाहिए, उन्हें संबंधित विषयों पर नहीं रहना चाहिए, उन्हें अपनी पढ़ाई को रोचक बनाने के लिए विभिन्न विषयों को सीखना चाहिए।
  • अध्ययन करते समय, छात्रों को समय का ट्रैक नहीं खोना चाहिए छात्रों को अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना चाहिए और संगीत और खेल जैसी आरामदायक गतिविधियों के लिए पर्याप्त समय देना चाहिए।

ये भी पढ़े : –

इस आर्टिकल में हमने लोको पायलट कैसे बने के बारें में बताया, यदि इस जानकारी से सम्बंधित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है। हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है।

Leave a Comment