पायलट की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है? पायलट सैलरी इन इंडिया

पायलट की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है? पायलट सैलरी इन इंडिया

Indian Pilot Salary पायलट की अगर हम सैलरी की बात करें तो शुरुआती दौर पर 2,00000 से शुरू होकर ₹2,50000 तक प्रतिमाह सैलरी एक पायलट को दिया जाता है। एयरलाइन पायलट का औसतन वेतनमान भारत में राष्ट्रीय औसत वेतन से करें 1110% प्रतिशत अधिक है एक एयरलाइन पायलट का औसतन सैलरी 11 लाख 25 हजार 100 रुपए की वेतनमान की उम्मीद कर सकते हैं और अधिकतम सैलरी उनके अनुभव के आधार पर 1,00,00,000 से भी अधिक सैलरी हो सकता है यहां एक एयरलाइन पायलट के अनुभव के आधार पर तय किया जाता है जो उच्चतम वेतन है।

एयरलाइन पायलटों में जूनियर फर्स्ट ऑफिसर सबसे न्यूनतम सैलरी (Pilot Salary) प्राप्त करने वाले में होते हैं जबकि अधिक अनुभव वाले एयरलाइन कैप्टन को अधिकतम वेतनमान प्राप्त होता है इनमें एयरलाइन कैप्टन, वरिष्ठ प्रथम अधिकारी, प्रथम अधिकारी एवं जूनियर प्रथम अधिकारी सभी में सैलरी के बीच काफी अंतर होता है एयरलाइन में पायलट के लिए 3 साल से कम के अनुभव हेतु एक एंट्री लेवल एयरलाइन पायलट 25,11,25,100 की औसत क्षतिपूर्ति हेतु आवेदन कर सकता है साथ – साथ 4 साल से 9 साल के अनुभव वाले एक मध्य केरियर एयरलाइंस पायलट Air 41,56,700 हेतु कुल मुआवजा अर्जित कर सकता है जबकि 10 वर्षों से लेकर 20 वर्ष तक के अनुभव वाले पायलट औसत 66,10,000 बनाता है 20 वर्ष से अधिक अनुभव वाले पायलट हेतु औसतन 74,59,800 रुपए कमाते हैं।

Low SalaryAverage SalaryHigh Salary
₹11,25,100₹46,87,900₹1,00,00,000

भारत में अगर हम पायलट की शुरुआती सैलरी की अगर बात करें तो 2 से ढाई लाख रुपए प्रतिमाह तक होती है पायलट बनने का सफर आसान नहीं होता है इसमें कई इस स्टेज ट्रेनी पायलट को पूरा करना होता है उसके पश्चात ही आप एक सफल पायलट के रूप में कमर्शियल पायलट और प्राइवेट पायलट बन सकते हैं अगर हम बात करें कमर्शियल पायलट की सैलरी की तो यह 300,000 से लेकर 1,000,000 वहीं अगर प्राइवेट पायलट की सैलरी की बात करें तो 150,000 से लेकर 300,000 तक होती है।

JOBSALARYDIFFERENCE
Airline Captain₹6,610K/year+41% 
Senior First Officer₹4,547K/year -3%
First Officer₹3,235K/year -31%
Junior First Officer₹1,125K/year -76%

भारत में सबसे ज्यादा नौकरी देने वाले एयरलाइन

  • एयर इंडिया
  • भारत जेट एयरवेज
  • एलायंस एयर
  • एयर कोस्टा
  • एयर इंडिया चार्टर्स लि
  • स्पाइसजेट
  • इंडिगो
  • एयरएशिया

पायलट बनने के लिए सीपीएल हासिल करने हेतु 250 घंटों का ट्रेनिंग जरूरी होता है इसमें 60 घंटों की पीपीएल फाइनल शामिल है इसके अलावा आपको एक मेडिकल फिटनेस टेस्ट साथ – साथ आपको एक परीक्षा भी देनी होती है, जिसमें एयर रेगुलेशन्स, एविएशन मीटरोलॉजी, एयर नेविगेशन, टेक्निकल, प्लानिंग और रेडियो तथा वायरलेस ट्रांसमिशन के रूप में कम्युनिकेशन की परीक्षा ली जाती है जिसे पास करने के पश्चात आप ट्रेनी पायलट के रूप में अपना काम स्टार्ट कर सकते हैं।

अगर हम परिवहन की बात करें तो वहाँ वाणिज्यिक उत्पादों के लिए , नागरिकों के निजी सामान और वाणिज्यिक परिवहन कार्गो हेतु सदस्यों के परिवहन के लिए कार्य करता है सामान्य तौर पर एक पायलट उड़ान भरने से पूर्व मौसम का अध्ययन, विमान का जांच साथ-साथ इंजन और विमान से जुडी सुरक्षा से भरी हुई विभिन्न योजनाओं और परिवहन मार्ग की पुष्टि करता है तत्पश्चात उड़ान भरता है उड़ान के दौरान पायलट व सभी चालक दल यात्रियों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार होते हैं।

हवाई यात्रा के दौरान लगातार हवाई यातायात नियंत्रण के संपर्क में रहते हैं मौसम और अन्य विषम स्थितियों से निपटने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं ज्यादातर समय, परिवहन सावधानी के लिए भरोसेमंद कंप्यूटर नियंत्रक प्रोग्रामिकल संचार और संचार प्रणालियों की जांच करते रहते हैं निजी क्षेत्र में आमतौर पर छोटे विमान और हल्के होते हैं। विमान या फिर जेट विमान का प्रयोग करते हैं वही कमर्शियल यूज़ के लिए बड़े कार्गो जेट विमानों का प्रयोग किया जाता है।

हमारे सोशल मीडिया में ज्वाइन होकर जानकारी पाएं :

टेलीग्राम ग्रुप में जुड़े

व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े

हिंदी रोज़गार अलर्ट में प्रतिदिन नवीनतम सरकारी नौकरी, रोजगार समाचार, परीक्षा पाठ्यक्रम, समय सारिणी, परीक्षा परिणाम और कई अन्य के लिए अनुसरण करते रहें.